Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

ब्रेकिंग

latest

युवाओं के साथ भेंट-मुलाकात कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल युवाओं से जयंती स्टेडियम, भिलाई में सीधी बातचीत कर रहे हैं

  युवाओं से भेंट-मुलाकात, दुर्ग रायपुर । युवाओं के साथ भेंट-मुलाकात कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल राजनांदगांव, कवर्धा, बालोद, बे...

 युवाओं से भेंट-मुलाकात, दुर्ग

रायपुर । युवाओं के साथ भेंट-मुलाकात कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल राजनांदगांव, कवर्धा, बालोद, बेमेतरा, खैरागढ़, मानपुर-मोहला-अंबागढ़-चौकी और दुर्ग जिले से आए युवाओं से जयंती स्टेडियम, भिलाई में सीधी बातचीत कर रहे हैं।
दिग्विजय कॉलेज की छात्रा ईश्वरी ने बताया कि इन 5 सालों में मैंने जाना कि हम सब ज्यादा सुरक्षित हुई हैं। ज्यादा तरक्की कर रहे हैं। हम लोग उद्यमिता के क्षेत्र में बढ़ रहे हैं।

बालोद से टेकराम पटेल ने कहा कि मेरी माटी इस दुनिया को सुवासित करती है। आल्हादित करती है। महानदी की धाराओं की तरह हमारा विकास हो रहा है।
स्वास्थ्य की बात करें तो धनवंतरी मेडिकल स्टोर खुले हैं।
हमारे प्रदेश में इलाज बेहतर हुआ है।
बस एक काम और करना है। हर जिले में ऐसे हॉस्पिटल हों कि महानगरों में रिफर ही न करना पड़े।
पूरे भारत में आज प्रदेश का नाम है। राम वन पथ गमन पर हुआ काम दुनिया जानती है।
गेड़ी और भौंरा गांव से निकल कर राजधानी पहुंच गया है।
इसी से सपनों का छत्तीसगढ़ तैयार हो रहा है।
नरवा से सिंचाई मिली। घुरूवा के दिन बहुर गए हैं।
पुरखों के सपनों को पूरा करने मुख्यमंत्री बढ़ चुके हैं।
राम राज्य के सपने को साकार करने अंगद जैसे युवा चाहिए।
आप लोग अपने कका की मदद कीजिये।
हमारे कका इतना मया दुलार करते हैं कि इसकी कोई सीमा नहीं है।
इसलिए कका आपके मया में दीवाना हे छत्तीसगढ़
बेमेतरा जिले के मनीष वर्मा ने आल्हा शैली की तर्ज में योजनाओं को गाकर सुनाया...
मैं मां भद्रकाली की भूमि बेमेतरा से हूँ।
आज मैं अपने छत्तीसगढ़ के विकास को आल्हा छंद से सुनाता हूँ।
फिर बहुत सुंदर छंद से इसे सुनाया।
लेथे सबके धान ल भैया, देथे बढ़िया दाम।
नरवा गरवा घुरूवा के भारी शोर।
मिल गे हमला भांचा राम।
कका राज म खुश हे भारी, नोनी बाबू सब सियान।
उनकी शानदार कविता लोगों को मंत्रमुग्ध कर गई।
शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय राजनांदगांव के विद्यार्थी मुकेश कुमार साहू ने गढ़बो नवा छत्तीसगढ़ विषय पर केंद्रित कविता पढ़ी।
मुकेश ने छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा चलायी जा रही जनहितैषी योजनाओं का समावेश अपनी कविता में करते हुए प्रस्तुति दी।
हमको मन की शक्ति देना, मन विजय करें।
कमलेश साहू दिग्विजय कॉलेज से ने बताया कि ज्ञानेश्वरी जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय पदक लाये हमारे यहां की ही है।
हमको अंतरराष्ट्रीय खेलना है तो पीटी टीचर गांव में भी चाहिए।
मुख्यमंत्री ने बताया कि पहले केवल 2 आवासीय खेल अकादमी थी। अब 8 हैं।
खेल को बढ़ावा देने हम विशेष प्रयास कर रहे हैं। इसके लिए नियत समय के लिए स्कूलों हेतु कोच से एग्रीमेंट कर सकते हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे खिलाड़ियों ने 13 पदक जीते हैं।
आप बस्तर, राजनांदगांव, बिलासपुर के स्टेडियम देखिए।
भिलाई में तो खेल का रुझान है।
ऐसे खेलों का भी आयोजन हो रहा है जिनका नाम भी नहीं सुना।
अबूझमाड़ के खिलाड़ियों ने मल्लखंभ में देश भर में नाम कमाया है।
आपका सुझाव बहुत अच्छा है।
इस पर विचार करेंगे।

No comments