Page Nav

HIDE

Grid

GRID_STYLE

Pages

ब्रेकिंग

latest

होली के दिन खुर्सीपार में हुई शुभम राजपूत की हत्या में शामिल होने के आरोप में की गई कार्रवाई

   भिलाई । जिले के बहुचर्चित महादेव महार हत्याकांड के मुख्य आरोपित व गैंगस्टर तपन सरकार को पुलिस ने अब फिर से एक नए हत्यकांड में गिरफ्तार कि...

 

 भिलाई । जिले के बहुचर्चित महादेव महार हत्याकांड के मुख्य आरोपित व गैंगस्टर तपन सरकार को पुलिस ने अब फिर से एक नए हत्यकांड में गिरफ्तार किया है। तपन के साथ ही उसके पांच सहयोगियों को भी गिरफ्तार किया गया है। सभी आरोपितों को रायपुर जिले के गोबरा नवापारा के चंपारण चौकी क्षेत्र के एक फार्म हाउस से गिरफ्तार किया गया है। दुर्ग पुलिस ने तपन सरकार को न्यायालय में पेश कर दिया है और बाकि के लोगों से पूछताछ कर रही है। बता दें कि बीते आठ मार्च को खुर्सीपार में शुभम राजपूत नाम के युवक की हत्या हुई थी। उक्त हत्याकांड में पुलिस ने सेवकराम नाम के आरोपित को गिरफ्तार किया था। घटना के नौ महीने बाद अचानक से तपन सरकार को इस हत्याकांड से जोड़ा गया था।  पुलिस का तर्क था कि तपन सरकार के कहने पर ी सेवकराम ने शुभम राजपूत की हत्या की थी। घटना को सुलझाने के बाद पुलिस ने ही ये बात कही थी कि शुभम सिंह खुर्सीपार में तपन सरकार के नाम पर लोगों से वसूली करता था। होली के दिन भी वो सेवकराम से रुपये मांग रहा था और उसी दौरान हुए विवाद के बाद सेवकराम के हाथों शुभम राजपूत की हत्या हो गई थी। इस हत्याकांड में तपन सरकार का नाम आने के बाद से वो फरार था। दो दिन पहले ही वो चंपारण के एक फार्म हाउस में आया था और वहां पर छिपा हुआ था। जिसकी जानकारी लगने के बाद पुलिस ने वहां पर छापामार कार्रवाई की। तपन सरकार के साथ ही पुलिस ने उसके गैंग के पुराने साथी रहे विद्युत चौधरी, प्रभाष सिंह, सतीश चंद्राकर, अन्नु दुबे व एक अन्य को भी फार्म हाउस से पकड़ा है। बताया जा रहा है कि इनमें से तपन सरकार को न्यायालय ले जाया गया है। बाकि के आरोपितों को अलग अलग थानों में रखा गया है। इस हत्याकांड में तपन सरकार का नाम सामने आने के बाद से शहर में उसके एनकाउंटर की चर्चा जोरों पर थी। चर्चा थी कि इस हत्याकांड में तपन सरकार का नाम आने के बाद उसका एनकाउंटर किया जा सकता है। सुबह जैसे ही तपन सरकार की गिरफ्तारी की चर्चा शहर फैली, उसके परिवार वाले न्यायालय पहुंच गए। अभी भी न्यायालय में काफी भीड़ लगी हुई है। वहीं इन गिरफ्तारियों को लेकर पुलिस विभाग के वरिष्ठ अधिकारी कुछ भी नहीं बता रहे हैं।

No comments